Ibn-e-Safi's Photo'

इब्न-ए-सफ़ी

1928 - 1980 | कराची, पाकिस्तान

उर्दू के सबसे बड़े जासूसी उपन्यासकार जो पहले ' असरार नारवी ' के नाम से शायरी करते थे।

उर्दू के सबसे बड़े जासूसी उपन्यासकार जो पहले ' असरार नारवी ' के नाम से शायरी करते थे।

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं

इब्न-ए-सफ़ी

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं

राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं हबीब वली मोहम्मद

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं

    राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं इब्न-ए-सफ़ी

अन्य वीडियो

  • राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं

    राह-ए-तलब में कौन किसी का अपने भी बेगाने हैं हबीब वली मोहम्मद