noImage

इक़बाल कैफ़ी

ग़ज़ल 10

शेर 11

गुहर समझा था लेकिन संग निकला

किसी का ज़र्फ़ कितना तंग निकला

अम्न 'कैफ़ी' हो नहीं सकता कभी

जब तलक ज़ुल्म-ओ-सितम मौजूद है

देखा है मोहब्बत को इबादत की नज़र से

नफ़रत के अवामिल हमें मायूब रहे हैं

ख़िज़ाँ का दौर भी आता है एक दिन 'कैफ़ी'

सदा-बहार कहाँ तक दरख़्त रहते हैं

मोहब्बतों को भी उस ने ख़ता क़रार दिया

मगर ये जुर्म हमें बार बार करना है