Kavish Badri's Photo'

काविश बद्री

1927

काविश बद्री के शेर

625
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

एक बोसा होंट पर फैला तबस्सुम बन गया

जो हरारत थी मिरी उस के बदन में गई

अब वो अहबाब ज़िंदा हैं रस्म-उल-ख़त वहाँ

रूठ कर उर्दू तो देहली से दकन में गई

जवाब देने की मोहलत मिल सकी हम को

वो पल में लाख सवालात कर के जाता है

अज़-सर-ए-नौ फ़िक्र का आग़ाज़ करना चाहिए

बे-पर-ओ-बाल सही परवाज़ करना चाहिए

माहौल सब का एक है आँखें वही नज़रें वही

सब से अलग राहें मिरी सब से जुदा मंज़र मिरा

साँस लेने भी पाया था कि मंज़र गुम हुआ

मैं किसी क़ाबिल था वर्ना ठहरता और कुछ

शाइरी में अन्फ़ुस-ओ-आफ़ाक़ मुबहम हैं अभी

इस्तिआरा ही हक़ीक़त में ख़ुदा सा ख़्वाब है

एक मंज़र भी देखा गया मुझ से 'काविश'

सारे आलम को कोई देख रहा है मुझ में

मेरी आवाज़ को आवाज़ ने तक़्सीम किया

रेडियो में हूँ टेलीफ़ोन के अंदर हूँ मैं

सुख की ज़मीं बसीत नहीं है तो क्या हुआ

दुख तो मिरा विशाल है आकाश की तरह

लफ़्ज़ की बुहतात इतनी नक़्द फ़न में गई

मस्ख़ हो कर सूरत-ए-मअ'नी सुख़न में गई