noImage

ख़ालिद हसन क़ादिरी

- 2012 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 8

शेर 8

बहुत हैं सज्दा-गाहें पर दर-ए-जानाँ नहीं मिलता

हज़ारों देवता हैं हर तरफ़ इंसाँ नहीं मिलता

  • शेयर कीजिए

घुटन तो दिल की रही क़स्र-ए-मरमरीं में भी

रौशनी से हुआ कुछ कुछ हवा से हुआ

  • शेयर कीजिए

आए तुम आओ तुम कि अब आने से क्या हासिल

ख़ुद अब तो हम से अपनी शक्ल पहचानी नहीं जाती

  • शेयर कीजिए

संबंधित शायर

  • हामिद हसन क़ादरी हामिद हसन क़ादरी बेटा

"लंदन" के और शायर

  • ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • मुबारक सिद्दीक़ी मुबारक सिद्दीक़ी
  • साहिर शेवी साहिर शेवी
  • जामी रुदौलवी जामी रुदौलवी
  • सोहन राही सोहन राही
  • एजाज़ अहमद एजाज़ एजाज़ अहमद एजाज़
  • रूप साग़र रूप साग़र
  • अक़ील दानिश अक़ील दानिश