KHalid Malik Sahil's Photo'

ख़ालिद मलिक साहिल

1961 | जर्मनी

584
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बस एक ख़ौफ़ था ज़िंदा तिरी जुदाई का

मिरा वो आख़िरी दुश्मन भी आज मारा गया

बस एक ख़ौफ़ था ज़िंदा तिरी जुदाई का

मिरा वो आख़िरी दुश्मन भी आज मारा गया

ख़्वाब देखा था मोहब्बत का मोहब्बत की क़सम

फिर इसी ख़्वाब की ताबीर में मसरूफ़ था मैं

ख़्वाब देखा था मोहब्बत का मोहब्बत की क़सम

फिर इसी ख़्वाब की ताबीर में मसरूफ़ था मैं

चमक रहे थे अंधेरे में सोच के जुगनू

मैं अपनी याद के ख़ेमे में सो नहीं पाया

चमक रहे थे अंधेरे में सोच के जुगनू

मैं अपनी याद के ख़ेमे में सो नहीं पाया

जुनूँ का कोई फ़साना तो हाथ आने दो

मैं रो पड़ूँगा बहाना तो हाथ आने दो

जुनूँ का कोई फ़साना तो हाथ आने दो

मैं रो पड़ूँगा बहाना तो हाथ आने दो

तुम मस्लहत कहो या मुनाफ़िक़ कहो मुझे

दिल में मगर ग़ुबार बहुत देर तक रहा

तुम मस्लहत कहो या मुनाफ़िक़ कहो मुझे

दिल में मगर ग़ुबार बहुत देर तक रहा

हम लोग तो अख़्लाक़ भी रख आए हैं 'साहिल'

रद्दी के इसी ढेर में आदाब पड़े थे

हम लोग तो अख़्लाक़ भी रख आए हैं 'साहिल'

रद्दी के इसी ढेर में आदाब पड़े थे

रौशनी की अगर अलामत है

राख उड़ती है क्यूँ शरारे पर

रौशनी की अगर अलामत है

राख उड़ती है क्यूँ शरारे पर

लफ़्ज़ रंगों में नहाए हुए घर में आए

तेरी आवाज़ की तस्वीर में मसरूफ़ था मैं

लफ़्ज़ रंगों में नहाए हुए घर में आए

तेरी आवाज़ की तस्वीर में मसरूफ़ था मैं

किसी ख़याल का कोई वजूद हो शायद

बदल रहा हूँ मैं ख़्वाबों को तजरबा कर के

किसी ख़याल का कोई वजूद हो शायद

बदल रहा हूँ मैं ख़्वाबों को तजरबा कर के

मैं तमाशा हूँ तमाशाई हैं चारों जानिब

शर्म है शर्म के मारे नहीं रो सकता मैं

मैं तमाशा हूँ तमाशाई हैं चारों जानिब

शर्म है शर्म के मारे नहीं रो सकता मैं

गुज़र रही है जो दिल पर वही हक़ीक़त है

ग़म-ए-जहाँ का फ़साना ग़म-ए-हयात से पूछ

गुज़र रही है जो दिल पर वही हक़ीक़त है

ग़म-ए-जहाँ का फ़साना ग़म-ए-हयात से पूछ

बाज़ औक़ात तिरा नाम बदल जाता है

बाज़ औक़ात तिरे नक़्श भी खो जाते हैं

बाज़ औक़ात तिरा नाम बदल जाता है

बाज़ औक़ात तिरे नक़्श भी खो जाते हैं

ज़र्रे ज़र्रे में क़यामत का समाँ है 'साहिल'

एक ही दिल के सहारे नहीं रो सकता मैं

ज़र्रे ज़र्रे में क़यामत का समाँ है 'साहिल'

एक ही दिल के सहारे नहीं रो सकता मैं

जवाब जिस का नहीं कोई वो सवाल बना

मैं ख़्वाब में उसे देखूँ कोई ख़याल बना

जवाब जिस का नहीं कोई वो सवाल बना

मैं ख़्वाब में उसे देखूँ कोई ख़याल बना

इस शहर के लोगों पे भरोसा नहीं करना

ज़ंजीर कोई दर पे लगाओ कि चला मैं

इस शहर के लोगों पे भरोसा नहीं करना

ज़ंजीर कोई दर पे लगाओ कि चला मैं

मैं अपनी आँख भी ख़्वाबों से धो नहीं पाया

मैं कैसे दूँगा ज़माने को जो नहीं पाया

मैं अपनी आँख भी ख़्वाबों से धो नहीं पाया

मैं कैसे दूँगा ज़माने को जो नहीं पाया

दुनिया से दूर अपने बराबर खड़े रहे

ख़्वाबों में जागते थे मगर रात हो गई

दुनिया से दूर अपने बराबर खड़े रहे

ख़्वाबों में जागते थे मगर रात हो गई

मैं किस यक़ीन से लिक्खा गया हूँ मिट्टी पर

वो कौन है जो मिरे सिलसिले की ढाल बना

मैं किस यक़ीन से लिक्खा गया हूँ मिट्टी पर

वो कौन है जो मिरे सिलसिले की ढाल बना

इस तिश्ना-लबी पर मुझे एज़ाज़ तो बख़्शो

बादा-कशो जाम उठाओ कि चला मैं

इस तिश्ना-लबी पर मुझे एज़ाज़ तो बख़्शो

बादा-कशो जाम उठाओ कि चला मैं