Mahboob Khizan's Photo'

महबूब ख़िज़ां

1930 - 2013 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

महबूब ख़िज़ां

महबूब ख़िज़ां

अकेली बस्तियाँ

बे-कस चमेली फूले अकेली आहें भरे दिल-जली महबूब ख़िज़ां

चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम

महबूब ख़िज़ां

दीवार से गुफ़्तुगू

किसी हँसती बोलती जीती-जागती चीज़ पर महबूब ख़िज़ां

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम

चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम एजाज़ हुसैन हज़रावी

हाल ऐसा नहीं कि तुम से कहें

हाल ऐसा नहीं कि तुम से कहें फ़रीदा ख़ानम

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • महबूब ख़िज़ां

  • महबूब ख़िज़ां

  • अकेली बस्तियाँ

    अकेली बस्तियाँ महबूब ख़िज़ां

  • चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम

    चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम महबूब ख़िज़ां

  • दीवार से गुफ़्तुगू

    दीवार से गुफ़्तुगू महबूब ख़िज़ां

अन्य वीडियो

  • चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम

    चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम एजाज़ हुसैन हज़रावी

  • हाल ऐसा नहीं कि तुम से कहें

    हाल ऐसा नहीं कि तुम से कहें फ़रीदा ख़ानम