Mahboob Khizan's Photo'

महबूब ख़िज़ां

1930 - 2013 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

2.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हम आप क़यामत से गुज़र क्यूँ नहीं जाते

जीने की शिकायत है तो मर क्यूँ नहीं जाते

एक मोहब्बत काफ़ी है

बाक़ी उम्र इज़ाफ़ी है

देखते हैं बे-नियाज़ाना गुज़र सकते नहीं

कितने जीते इस लिए होंगे कि मर सकते नहीं

तुम्हें ख़याल नहीं किस तरह बताएँ तुम्हें

कि साँस चलती है लेकिन उदास चलती है

कतराते हैं बल खाते हैं घबराते हैं क्यूँ लोग

सर्दी है तो पानी में उतर क्यूँ नहीं जाते

किसे ख़बर कि अहल-ए-ग़म सुकून की तलाश में

शराब की तरफ़ गए शराब के लिए नहीं

देखो दुनिया है दिल है

अपनी अपनी मंज़िल है

उलझते रहने में कुछ भी नहीं थकन के सिवा

बहुत हक़ीर हैं हम तुम बड़ी है ये दुनिया

चाही थी दिल ने तुझ से वफ़ा कम बहुत ही कम

शायद इसी लिए है गिला कम बहुत ही कम

बात ये है कि आदमी शाइर

या तो होता है या नहीं होता

घबरा सितम से करम से अदा से

हर मोड़ यहाँ राह दिखाने के लिए है

ज़ख़्म बिगड़े तो बदन काट के फेंक

वर्ना काँटा भी मोहब्बत से निकाल

कोई रस्ता कहीं जाए तो जानें

बदलने के लिए रस्ते बहुत हैं

तुम्हारे वास्ते सब कुछ है मेरे बंदा-नवाज़

मगर ये शर्त कि पहले पसंद आओ मुझे

ये क्या कहूँ कि मुझ को कुछ गुनाह भी अज़ीज़ हैं

ये क्यूँ कहूँ कि ज़िंदगी सवाब के लिए नहीं

मिरी निगाह में कुछ और ढूँडने वाले

तिरी निगाह में कुछ और ढूँडता हूँ मैं

अब याद कभी आए तो आईने से पूछो

'महबूब-ख़िज़ाँ' शाम को घर क्यूँ नहीं जाते

ये दिल-नवाज़ उदासी भरी भरी पलकें

अरे इन आँखों में क्या है सुनो दिखाओ मुझे

हवा चली तो फिर आँखों में गए सब रंग

मगर वो सात बरस लौट कर नहीं आए

पलट गईं जो निगाहें उन्हीं से शिकवा था

सो आज भी है मगर देर हो गई शायद

'ख़िज़ाँ' कभी तो कहो एक इस तरह की ग़ज़ल

कि जैसे राह में बच्चे ख़ुशी से खेलते हैं

ये लोग साँस भी लेते हैं ज़िंदा भी हैं मगर

हर आन जैसे इन्हें रोकती है ये दुनिया

ये सर्द-मेहर उजाला ये जीती-जागती रात

तिरे ख़याल से तस्वीर-ए-माह जलती है

हाए फिर फ़स्ल-ए-बहार आई 'ख़िज़ाँ'

कभी मरना कभी जीना है मुहाल