Midhat-ul-Akhtar's Photo'

मिद्हत-उल-अख़्तर

1945

ग़ज़ल 19

शेर 12

लाई है कहाँ मुझ को तबीअत की दो-रंगी

दुनिया का तलबगार भी दुनिया से ख़फ़ा भी

जाने वाले मुझे कुछ अपनी निशानी दे जा

रूह प्यासी रहे आँख में पानी दे जा

हम को उसी दयार की मिट्टी हुई अज़ीज़

नक़्शे में जिस का नाम-पता अब नहीं रहा

ई-पुस्तक 2

Charon Or

 

1968

Munafiqon Mein Roz-o-Shab

 

1980

 

संबंधित शायर

  • उबैद हारिस उबैद हारिस बेटा

Added to your favorites

Removed from your favorites