noImage

मिर्ज़ा इहसान बेग

आज़मगढ़, भारत

मिर्ज़ा इहसान बेग के शेर

कुछ नहीं इख़्तियार में फिर भी

हर ख़ता मेरी हर क़ुसूर मिरा

बहुत लतीफ़ हैं कैफ़िय्यतें मोहब्बत की

वो बुल-हवस है जो करता है जैब दामन चाक

उस आस्ताँ पे सज्दा का भी कुछ रहा होश

अल्लाह-रे इज़्तिराब जबीन-ए-नियाज़ का