Mohammad Ali Sahil's Photo'

मोहम्मद अली साहिल

1964 | इटावा, भारत

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

अब हक़ीक़त लग रहा है मेरा अफ़्साना मुझे

मोहम्मद अली साहिल

ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

मोहम्मद अली साहिल

ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

मोहम्मद अली साहिल

तिरी सूरत मुझे बताती है

मोहम्मद अली साहिल

मिरी तरफ़ से निगाहें तो वो हटा लेगा

मोहम्मद अली साहिल

ये दर्द का है मुसलसल जो सिलसिला क्यूँ है

मोहम्मद अली साहिल

राह-ए-हक़ में तुझे हस्ती को मिटाना होगा

मोहम्मद अली साहिल

हम क़लंदर हैं हमें आता है फ़ाक़ा करना

मोहम्मद अली साहिल

हर एक हाथ में पत्थर है क्या किया जाए

मोहम्मद अली साहिल

हादसा तो बस इक बहाना था

मोहम्मद अली साहिल

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • मोहम्मद अली साहिल

    मोहम्मद अली साहिल मोहम्मद अली साहिल

  • मोहम्मद अली साहिल

    मोहम्मद अली साहिल मोहम्मद अली साहिल

  • मोहम्मद अली साहिल

    मोहम्मद अली साहिल मोहम्मद अली साहिल

  • अब हक़ीक़त लग रहा है मेरा अफ़्साना मुझे

    अब हक़ीक़त लग रहा है मेरा अफ़्साना मुझे मोहम्मद अली साहिल

  • ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

    ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए मोहम्मद अली साहिल

  • ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

    ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए मोहम्मद अली साहिल

  • तिरी सूरत मुझे बताती है

    तिरी सूरत मुझे बताती है मोहम्मद अली साहिल

  • मिरी तरफ़ से निगाहें तो वो हटा लेगा

    मिरी तरफ़ से निगाहें तो वो हटा लेगा मोहम्मद अली साहिल

  • ये दर्द का है मुसलसल जो सिलसिला क्यूँ है

    ये दर्द का है मुसलसल जो सिलसिला क्यूँ है मोहम्मद अली साहिल

  • राह-ए-हक़ में तुझे हस्ती को मिटाना होगा

    राह-ए-हक़ में तुझे हस्ती को मिटाना होगा मोहम्मद अली साहिल

  • हम क़लंदर हैं हमें आता है फ़ाक़ा करना

    हम क़लंदर हैं हमें आता है फ़ाक़ा करना मोहम्मद अली साहिल

  • हर एक हाथ में पत्थर है क्या किया जाए

    हर एक हाथ में पत्थर है क्या किया जाए मोहम्मद अली साहिल

  • हादसा तो बस इक बहाना था

    हादसा तो बस इक बहाना था मोहम्मद अली साहिल