Mohammad Ali Sahil's Photo'

मोहम्मद अली साहिल

1964 | इटावा, भारत

ग़ज़ल 16

शेर 11

दूर रहती हैं सदा उन से बलाएँ साहिल

अपने माँ बाप की जो रोज़ दुआ लेते हैं

  • शेयर कीजिए

ख़ामुशी तेरी मिरी जान लिए लेती है

अपनी तस्वीर से बाहर तुझे आना होगा

हम हैं तहज़ीब के अलम-बरदार

हम को उर्दू ज़बान आती है

  • शेयर कीजिए

कोई करता है जब हिन्दोस्तान की बात 'साहिल'

मुझे इक़बाल का क़ौमी तराना याद आता है

  • शेयर कीजिए

मेरी नींदें हराम क्या होंगी

घर में रिज़्क़-ए-हलाल आता है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Kirdar

 

2014

Pahla Qadam

 

2012

 

चित्र शायरी 1

मज़ाक़-ए-ग़म उड़ाना अब मुझे अच्छा नहीं लगता किसी का मुस्कुराना अब मुझे अच्छा नहीं लगता कभी नींदें चुराना जिन की मुझ को अच्छा लगता था नज़र उन का चुराना अब मुझे अच्छा नहीं लगता जिन्हें मुझ पर यक़ीं है मेरी चाहत पर भरोसा है भरम उन का मिटाना अब मुझे अच्छा नहीं लगता नशेमन मेरे दिल का जब से तिनका तिनका बिखरा है कोई भी आशियाना अब मुझे अच्छा नहीं लगता मोहब्बत करने वालों ने जो छोड़े हैं ज़माने में निशाँ उन के मिटाना अब मुझे अच्छा नहीं लगता तिरी दुनिया से शायद भर चुका है मेरा दिल 'साहिल' यहाँ का आब-ओ-दाना अब मुझे अच्छा नहीं लगता

 

वीडियो 13

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

मोहम्मद अली साहिल

अब हक़ीक़त लग रहा है मेरा अफ़्साना मुझे

मोहम्मद अली साहिल

ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

मोहम्मद अली साहिल

ऐसा नहीं सलाम किया और गुज़र गए

मोहम्मद अली साहिल

तिरी सूरत मुझे बताती है

मोहम्मद अली साहिल

मिरी तरफ़ से निगाहें तो वो हटा लेगा

मोहम्मद अली साहिल

ये दर्द का है मुसलसल जो सिलसिला क्यूँ है

मोहम्मद अली साहिल

राह-ए-हक़ में तुझे हस्ती को मिटाना होगा

मोहम्मद अली साहिल

हम क़लंदर हैं हमें आता है फ़ाक़ा करना

मोहम्मद अली साहिल

हर एक हाथ में पत्थर है क्या किया जाए

मोहम्मद अली साहिल

हादसा तो बस इक बहाना था

मोहम्मद अली साहिल

"इटावा" के और शायर

  • निसार इटावी निसार इटावी
  • अहमक़ फफूँदवी अहमक़ फफूँदवी