noImage

क़द्र बिलग्रामी

1883 - 1894

अफ़्सुर्दा-दिल के वास्ते क्या चाँदनी का लुत्फ़

लिपटा पड़ा है मुर्दा सा गोया कफ़न के साथ