Rana Amir Liyaqat's Photo'

राना आमिर लियाक़त

ग़ज़ल 18

शेर 26

अगरचे रोज़ मिरा सब्र आज़माता है

मगर ये दरिया मुझे तैरना सिखाता है

मैं जानता हूँ मोहब्बत में क्या नहीं करना

ये वो जगह है जहाँ क़ैस भी फिसलता है

  • शेयर कीजिए

कई तरह के तहाइफ़ पसंद हैं उस को

मगर जो काम यहाँ फूल से निकलता है

  • शेयर कीजिए

आओ आँखें मिला के देखते हैं

कौन कितना उदास रहता है

  • शेयर कीजिए

गले लगा के मुझे पूछ मसअला क्या है

मैं डर रहा हूँ तुझे हाल-ए-दिल सुनाने से

क़ितआ 1