Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

रौनक़ टोंकवी

1819 - 1890

रौनक़ टोंकवी के शेर

आज क़ातिल का गले पर मिरे ख़ंजर चमका

लिल्लाहिल-हम्द कि मेरा भी मुक़द्दर चमका

उड़ जाऊँगा बहार में मानिंद-ए-बू-ए-गुल

ज़ंजीर मेरे पा-ए-जुनूँ में हज़ार डाल

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए