noImage

सफ़दर मिर्ज़ापुरी

1870 - 1930 | मिर्ज़ापुर, भारत

सफ़दर मिर्ज़ापुरी

ग़ज़ल 34

अशआर 5

घर तो क्या घर का निशाँ भी नहीं बाक़ी 'सफ़दर'

अब वतन में कभी जाएँगे तो मेहमाँ होंगे

  • शेयर कीजिए

इक निगाह-ए-ग़लत-अंदाज़ सही

दिल की आख़िर कोई क़ीमत होगी

  • शेयर कीजिए

क़िस्मतों से मिला है दर्द हमें

कहीं आराम-ए-दिल हो जाए

  • शेयर कीजिए

क़ीमत-ए-जिंस-ए-वफ़ा नीम-निगाही तौबा

ऐसी बातें करें आप कि सौदा बने

  • शेयर कीजिए

जौर-ए-अफ़्लाक की शिरकत की ज़रूरत क्या है

आप काफ़ी हैं ज़माने को सताने के लिए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 12

"मिर्ज़ापुर" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI