noImage

सख़ी लख़नवी

1813 - 1876

547
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जाएगी गुलशन तलक उस गुल की आमद की ख़बर

आएगी बुलबुल मिरे घर में मुबारकबाद को

हिचकियाँ आती हैं पर लेते नहीं वो मेरा नाम

देखना उन की फ़रामोशी को मेरी याद को

बात करने में होंट लड़ते हैं

ऐसे तकरार का ख़ुदा-हाफ़िज़

दफ़्न हम हो चुके तो कहते हैं

इस गुनहगार का ख़ुदा-हाफ़िज़

देखो क़लई खुलेगी साफ़ उस की

आईना उन के मुँह चढ़ा है आज

बर्ग-ए-गुल मैं तेरे बोसे लूँ

तुझ में है ढंग यार के लब का

वो आशिक़ हैं कि मरने पर हमारे

करेंगे याद हम को उम्र भर आप

ख़ाल और रुख़ से किस को दूँ निस्बत

ऐसे तारे ऐसा प्यारा चाँद

अजी फेंको रक़ीब का नामा

इबारत भली अच्छा ख़त

मैं तुझे फिर ज़मीं दिखाऊँगा

देख मुझ से आसमान बिगड़

आशिक़ हैं ज़माने में माशूक़

इधर हम रह गए हैं और उधर आप

सीने से हमारा दिल ले जाओ

छुड़वाते हो क्यूँ वतन किसी का

यूँही वादा करो यक़ीं हो जाए

क्यूँ क़सम लूँ क़सम के क्या मअनी

रहते काबे में अकेले क्या हम

दिल लगाने को सनम भी तो थे

तीस दिन यार अब आएगा

इस महीने का नाम ख़ाली है

ज़िंदगी तक मिरी हँस लीजिए आप

फिर मुझे रोइएगा मेरे ब'अद

रंगत उस रुख़ की गुल ने पाई है

और पसीने की बू गुलाब में है

रुख़ हाथ पे रक्खा करो वक़्त-ए-तकल्लुम

हर बात में क़ुरआन उठाया नहीं जाता

हम उन से आज का शिकवा करेंगे

उखाड़ेंगे वो बरसों की गड़ी बात

दिल कलेजे दिमाग़ सीना चश्म

इन के रहने के हैं मकान बहुत

इस तरफ़ बज़्म में हम थे वो थे

उस तरफ़ शम्अ थी परवाना था

तुम आसान को आसाँ समझो

वर्ना मुश्किल मिरी मुश्किल तो नहीं

बहुत ख़्वाब-ए-ग़फ़लत में दिन चढ़ गया

उठो सोने वालो फिर आएगी रात

देखें कहता है ख़ुदा हश्र के दिन

तुम को क्या ग़ैर को क्या हम को क्या

आँखों से पा-ए-यार लगाने की है हवस

हल्क़ा हमारे चश्म का उस की रिकाब हो

दर्द को गुर्दा तड़पने को जिगर

हिज्र में सब हैं मगर दिल तो नहीं

ख़ून-ए-उश्शाक़ है मआनी में

शौक़ से पान खाइए साहब

'सख़ी' बैठिए हट के कुछ उस के दर से

बड़ी भीड़ होगी कुचल जाइएगा

कभी पहुँचेगा दिल उन उँगलियों तक

नगीने की तरह ख़ातिम में जड़ के

नज़'अ के दम भी उन्हें हिचकी आएगी कभी

यूँही गर भूले रहेंगे वो 'सख़ी' की याद को

बोसा हर वक़्त रुख़ का लेता है

किस क़दर गेसू-ए-दोता है शोख़

क्यूँ हसीनों की आँखों से लड़े

मेरी पुतली की मर्दुमी ही तो है

ख़ुदा के पास क्या जाएँगे ज़ाहिद

गुनाह-गारों से जब ये बार पाएँ

छोड़ा हिज्र में भी ख़ाना-ए-तन

रगड़वाएगी कब तक एड़ियाँ रूह

था हिना से जो शोख़ मेरा ख़ूँ

बोले ये लाल लाल है कुछ और

क़ाफ़िला जाता है साग़र की तरफ़ रिंदों का

है मगर क़ुलक़ुल-ए-मीना जरस-ए-जाम-ए-शराब

चर्ख़ पर बद्र जिस को कहते हैं

यार का साग़र-ए-सिफ़ाली है

तस्वीर-ए-चश्म-ए-यार का ख़्वाहाँ है बाग़बाँ

ईजाद होगी नर्गिस-ए-बीमार की जगह

पूजना बुत का है ये क्या मज़मून

और तवाफ़-ए-हरम के क्या मअनी

शैख़-जी बुत की बुराई कीजे

अपने अल्लाह से भरपाइगा

हमा-तन हो गए हैं आईना

ख़ुद-नुमाई सी ख़ुद-नुमाई है

नक़्द-ए-दिल का बड़ा तक़ाज़ा है

गोया उन की ज़मीं जोते हैं

जिस के घर जाते थे हज़रत-ए-दिल

वाँ लगे फाँद ने दीवार ये क्या

जीतेंगे हम से बाज़ी-ए-इश्क़

अग़्यार के पिट पड़ेंगे पाँसे

की ख़िताबत को गर ख़ुदा समझा

बंदा भी आख़िर आदमी ही तो है

कअ'बे में सख़्त-कलामी सुन ली

बुत-कदे में कभी आइएगा

एक दो तीन चार पाँच छे सात

यूँही गिन लेंगे कम के क्या मअनी

मिरे लाशे को कांधा दे के बोले

चलो तुर्बत में अब तुम को सुलाएँ

ली ज़बाँ उस की जो मुँह में हो गया ज़ौक़-ए-नबात

उँगलियाँ चूसीं तो ज़ौक़-ए-नैशकर पैदा हुआ

हैफ़ साबित है जेब ने दामन

और जुनून में बहार आई है