Saleem Kausar's Photo'

सलीम कौसर

1945 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के चर्चित शायर। अपनी ग़ज़ल ' मैं ख़याल हूँ किसी और का ' के लिए मशहूर।

पाकिस्तान के चर्चित शायर। अपनी ग़ज़ल ' मैं ख़याल हूँ किसी और का ' के लिए मशहूर।

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Reading nazm "Taaza Khabar"

सलीम कौसर

Saleem Kausar at amushaira in 2003

सलीम कौसर

तुझ से बढ़ कर कोई प्यारा भी नहीं हो सकता

सलीम कौसर

दस्त-ए-दुआ को कासा-ए-साइल समझते हो

सलीम कौसर

मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

सलीम कौसर

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

मेहदी हसन

मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

रफ़ाक़त अली ख़ान

मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

हरिहरण

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • Reading nazm "Taaza Khabar"

    Reading nazm "Taaza Khabar" सलीम कौसर

  • Saleem Kausar at amushaira in 2003

    Saleem Kausar at amushaira in 2003 सलीम कौसर

  • तुझ से बढ़ कर कोई प्यारा भी नहीं हो सकता

    तुझ से बढ़ कर कोई प्यारा भी नहीं हो सकता सलीम कौसर

  • दस्त-ए-दुआ को कासा-ए-साइल समझते हो

    दस्त-ए-दुआ को कासा-ए-साइल समझते हो सलीम कौसर

  • मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

    मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है सलीम कौसर

अन्य वीडियो

  • मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

    मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है मेहदी हसन

  • मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

    मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है रफ़ाक़त अली ख़ान

  • मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है

    मैं ख़याल हूँ किसी और का मुझे सोचता कोई और है हरिहरण