876
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

इक वही शख़्स मुझ को याद रहा

जिस को समझा था भूल जाऊँगा

झूटी उम्मीद की उँगली को पकड़ना छोड़ो

दर्द से बात करो दर्द से लड़ना छोड़ो

कैसे हो क्या है हाल मत पूछो

मुझ से मुश्किल सवाल मत पूछो

निकले थे दोनों भेस बदल के तो क्या अजब

मैं ढूँडता ख़ुदा को फिरा और ख़ुदा मुझे

ये तमन्ना है कि अब और तमन्ना करें

शेर कहते रहें चुप चाप तक़ाज़ा करें

ज़िंदगी हम से तो इस दर्जा तग़ाफ़ुल बरत

हम भी शामिल थे तिरे चाहने वालों में कभी

वो भी हमारे नाम से बेगाने हो गए

हम को भी सच है उन से मोहब्बत नहीं रही

ऐसा नहीं कि उन से मोहब्बत हो मगर

पहले सा जोश पहले सी शिद्दत नहीं रही

हम जो पहले कहीं मिले होते

और ही अपने सिलसिले होते

देखे जो मेरी नेकी को शक की निगाह से

वो आदमी भी तो मिरे अंदर है क्या करूँ

वो एक ख़्वाब जो फिर लौट कर नहीं आया

वो इक ख़याल जिसे मैं भुला नहीं सकता

अपनी आदत कि सब से सब कह दें

शहर का है मिज़ाज सन्नाटा

ये अलग बात कि वो मुझ से ख़फ़ा रहता है

मैं इक इंसान हूँ और मुझ में ख़ुदा रहता है

झाँकते रात के गरेबाँ से

हम ने सौ आफ़्ताब देखे हैं

जिस से सारे चराग़ जलते थे

वो चराग़ आज कुछ बुझा सा था

कोई शय एक सी नहीं रहती

उम्र ढलती है ग़म बदलते हैं

ज़िंदगी इस क़दर कठिन क्यूँ है

आदमी की भला ख़ता क्या है

चाँद सूरज की तरह तुम भी हो क़ुदरत का खेल

जैसे हो वैसे रहो बनना बिगड़ना छोड़ो

गुफ़्तुगू तीर सी लगी दिल में

अब है शायद इलाज सन्नाटा

कुछ तो मैं भी डरा डरा सा था

और कुछ रास्ता नया सा था

कुछ तो अपने लिए भी रखना है

ज़ख़्म औरों को क्यूँ दिखाएँ सब

जब ये माना कि दिल में डर है बहुत

तब कहीं जा के दिल से डर निकला

ख़ाली बरामदों ने मुझे देख कर कहा

क्या बात है उदास से कुछ लग रहे हो तुम

हज़ार चाहें मगर छूट ही नहीं सकती

बड़ी अजीब है ये मय-कशी की आदत भी

बुत समझते थे जिस को सारे लोग

वो मिरे वास्ते ख़ुदा सा था

मुझे ख़बर थी इस घर में कितने कमरे हैं

मैं कैसे ले के वहाँ सारी दास्ताँ जाता

क्या नहीं जानता मुझे कोई

क्या नहीं शहर में वो घर बाक़ी