Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

शफ़क़त काज़मी

1914 - 1975

शफ़क़त काज़मी के शेर

कभी तो उन को हमारा ख़याल आएगा

हम इस उमीद पे तर्क-ए-वफ़ा नहीं करते

नई बहार का मुज़्दा बजा सही लेकिन

अभी तो अगली बहारों का ज़ख़्म ताज़ा है

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए