noImage

ताबिश लखनवी

ताबिश लखनवी के शेर

हम ने माना कि नहीं होती मुकम्मल तस्कीं

ख़त को भी आधी मुलाक़ात कहा जाता है