Tahir Azeem's Photo'

ताहिर अज़ीम

1978 | बहरैन

ताहिर अज़ीम के शेर

915
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जो तिरे इंतिज़ार में गुज़रे

बस वही इंतिज़ार के दिन थे

शहर की इस भीड़ में चल तो रहा हूँ

ज़ेहन में पर गाँव का नक़्शा रखा है

ये जो माज़ी की बात करते हैं

सोचते होंगे हाल से आगे

मुझ को भी हक़ है ज़िंदगानी का

मैं भी किरदार हूँ कहानी का

बरसों पहले जिस दरिया में उतरा था

अब तक उस की गहराई है आँखों में

सोच अपनी ज़ात तक महदूद है

ज़ेहन की क्या ये तबाही कुछ नहीं

मैं तिरे हिज्र में जो ज़िंदा हूँ

सोचता हूँ विसाल से आगे

मैं तिरे हिज्र की गिरफ़्त में हूँ

एक सहरा है मुब्तला मुझ में

रहता है ज़ेहन दिल में जो एहसास की तरह

उस का कोई पता भी ज़रूरी नहीं कि हो

इन बातों पर मत जाना जो आम हुईं

देखो कितनी सच्चाई है आँखों में

तासीर नहीं रहती अल्फ़ाज़ की बंदिश में

मैं सच जो नहीं कहता लहजे का असर जाता

जो बहुत बे-क़रार रखते थे

हाँ वही तो क़रार के दिन थे

तुम हमारे ख़ून की क़ीमत पूछो

इस में अपने ज़र्फ़ का अर्सा रखा है

तीरगी की क्या अजब तरकीब है ये

अब हवा के दोश पर दीवा रखा है