Wahid Premi's Photo'

वाहिद प्रेमी

1938 - 1993 | मध्य प्रदेश, भारत

वाहिद प्रेमी के शेर

562
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

किसी को बे-सबब शोहरत नहीं मिलती है 'वाहिद'

उन्हीं के नाम हैं दुनिया में जिन के काम अच्छे हैं

गुल ग़ुंचे आफ़्ताब शफ़क़ चाँद कहकशाँ

ऐसी कोई भी चीज़ नहीं जिस में तू हो

बा'द तकलीफ़ के राहत है यक़ीनी 'वाहिद'

रात का आना ही पैग़ाम-ए-सहर होता है

दिलों में ज़ख़्म होंटों पर तबस्सुम

उसी का नाम तो ज़िंदा-दिली है

वो और हैं किनारों पे पाते हैं जो सुकूँ

हम को क़रार मिलता है तूफ़ाँ की गोद में

कोई हंगामा-ए-हयात नहीं

रात ख़ामोश है सहर ख़ामोश

उफ़ गर्दिश-ए-हयात तिरी फ़ित्ना-साज़ियाँ

अपने वतन में दूर हैं अहल-ए-वतन से हम

हक़ बात सर-ए-बज़्म भी कहने में तअम्मुल

हक़ बात सर-ए-दार कहो सोचते क्या हो

शख़्सिय्यत-ए-फ़नकार मुअ'म्मा नहीं 'वाहिद'

फ़न ही में हुआ करता है फ़नकार का परतव

मेरी दीवानगी-ए-इश्क़ है इक दर्स-ए-जहाँ

मेरे गिरने से बहुत लोग सँभल जाते हैं

कोई गर्दिश हो कोई ग़म हो कोई मुश्किल हो

जिस को आना हो हमारे वो मुक़ाबिल आए

आज़ाद तो बरसों से हैं अरबाब-ए-गुलिस्ताँ

आई मगर ताक़त-ए-परवाज़ अभी तक

इस तरह हुस्न-ओ-मोहब्बत की करो तुम तफ़्सीर

मुझ को आईना कहो और उन्हें तस्वीर कहो

एक मुद्दत से इसी उलझन में हूँ

उन को या ख़ुद को किसे सज्दा करूँ

हुजूम-ए-ग़म से मिली है हयात-ए-नौ मुझ को

हुजूम-ए-दर्द से पाया है हौसला मैं ने

है शाम-ए-अवध गेसू-ए-दिलदार का परतव

और सुब्ह-ए-बनारस है रुख़-ए-यार का परतव

शब-ए-फ़िराक़ कई बार गोशा-ए-दिल से

उठी तो आह मगर आह बे-असर उट्ठी

मैं औरों को क्या परखूँ आइना-ए-आलम में

मुहताज-ए-शनासाई जब अपना ही चेहरा है

कभी हुस्न-ओ-मोहब्बत में बन सकी 'वाहिद'

वो अपने नाज़ में हम अपने बाँकपन में रहे

हम वो रह-रव हैं कि चलना ही है मस्लक जिन का

हम तो ठुकरा दें अगर राह में मंज़िल आए

पूछिए कि शब-ए-हिज्र हम पे क्या गुज़री

तमाम रात जले शम-ए-अंजुमन की तरह

का'बा-ओ-दैर-ओ-कलीसा का तजस्सुस क्यूँ हो

जब मिरे क़ल्ब ही में मेरा ख़ुदा है यारो

राह-ए-तलब की लाख मसाफ़त गिराँ सही

दुनिया को मैं जहाँ भी मिला ताज़ा-दम मिला

अपना नफ़स नफ़स है कि शो'ला कहें जिसे

वो ज़िंदगी है आग का दरिया कहें जिसे

किस शान किस वक़ार से किस बाँकपन से हम

गुज़रे हैं आज़माइश-ए-दार-ओ-रसन से हम

अँधेरों में उजाले ढूँढता हूँ

ये हुस्न-ए-ज़न है या दीवाना-पन है

क्यूँ शिकवा-ए-बे-मेहरी-ए-साक़ी है लबों पर

पीना है तो ख़ुद बढ़ के पियो बादा-गुसारो

आशियाँ जलने पे बुनियाद नई पड़ती है

अक्स-ए-तख़रीब को आईना-ए-तामीर कहो