noImage

वसीम ख़ैराबादी

- 1929 | उत्तर प्रदेश, भारत

वसीम ख़ैराबादी

ग़ज़ल 12

शेर 4

फ़लक बेदाद करता है जो जौर ईजाद करते हैं

ग़ज़ब शागिर्द ढाता है सितम उस्ताद करते हैं

  • शेयर कीजिए

आसमानों पर भी हैं चर्चे हुस्न-ए-आलमगीर के

चाँद ने भी रंग उड़ाए चाँद सी तस्वीर के

  • शेयर कीजिए

उसे बहिश्त के ज़िंदाँ में भेज देना तुम

गुनाहगार-ए-मोहब्बत को ये सज़ा देना

  • शेयर कीजिए

जुर्म इतने कर चला हूँ हश्र तक लिक्खेंगे रोज़

कातिब-ए-आमाल पाएँगे फ़ुर्सत काम से

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Aaqa-e-Sukhan Waseem Khairabadi: Hayat Aur Karname

 

2012

 

संबंधित शायर

  • अमीर मीनाई अमीर मीनाई गुरु
  • फ़िराक़ गोरखपुरी फ़िराक़ गोरखपुरी शिष्य
  • रियाज़ ख़ैराबादी रियाज़ ख़ैराबादी समकालीन

"उत्तर प्रदेश" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • रियाज़ ख़ैराबादी रियाज़ ख़ैराबादी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • क़ाएम चाँदपुरी क़ाएम चाँदपुरी
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • हफ़ीज़ जौनपुरी हफ़ीज़ जौनपुरी