noImage

वसीम ख़ैराबादी

- 1929 | उत्तर प्रदेश, भारत

वसीम ख़ैराबादी

ग़ज़ल 12

अशआर 4

फ़लक बेदाद करता है जो जौर ईजाद करते हैं

ग़ज़ब शागिर्द ढाता है सितम उस्ताद करते हैं

  • शेयर कीजिए

आसमानों पर भी हैं चर्चे हुस्न-ए-आलमगीर के

चाँद ने भी रंग उड़ाए चाँद सी तस्वीर के

  • शेयर कीजिए

उसे बहिश्त के ज़िंदाँ में भेज देना तुम

गुनाहगार-ए-मोहब्बत को ये सज़ा देना

  • शेयर कीजिए

जुर्म इतने कर चला हूँ हश्र तक लिक्खेंगे रोज़

कातिब-ए-आमाल पाएँगे फ़ुर्सत काम से

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

संबंधित शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए