ग़ज़ल 2

 

शेर 2

ये समझ कर फ़क़ीरी ही में है ख़ुदा

गुन हमेशा फ़क़ीरों के गाते रहे

जो सुख के उजाले में था परछाईं हमारी

अब दुख के अँधेरे में वो साया नहीं देखा

 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • अख़्तर ज़ियाई अख़्तर ज़ियाई
  • ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब
  • जौहर ज़ाहिरी जौहर ज़ाहिरी
  • आमिर अमीर आमिर अमीर