ग़ज़ल 3

 

शेर 1

मोहब्बतें तो हुईं और तुम से पहले भी

मगर जो तुम से हुई याद करते रहते हैं

  • शेयर कीजिए
 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब
  • जौहर ज़ाहिरी जौहर ज़ाहिरी
  • आमिर अमीर आमिर अमीर
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • जामी रुदौलवी जामी रुदौलवी
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • बुलबुल काश्मीरी बुलबुल काश्मीरी