Zafar Gorakhpuri's Photo'

ज़फ़र गोरखपुरी

1935 - 2017 | मुंबई, भारत

अग्रणी प्रगतिशील शायर।

अग्रणी प्रगतिशील शायर।

1.27K
Favorite

SORT BY

देखें क़रीब से भी तो अच्छा दिखाई दे

इक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे

मेरी इक छोटी सी कोशिश तुझ को पाने के लिए

बन गई है मसअला सारे ज़माने के लिए

कितनी आसानी से मशहूर किया है ख़ुद को

मैं ने अपने से बड़े शख़्स को गाली दे कर

अपने अतवार में कितना बड़ा शातिर होगा

ज़िंदगी तुझ से कभी जिस ने शिकायत नहीं की

छत टपकती थी अगरचे फिर भी जाती थी नींद

मैं नए घर में बहुत रोया पुराने के लिए

आसमाँ ऐसा भी क्या ख़तरा था दिल की आग से

इतनी बारिश एक शोले को बुझाने के लिए

मैं 'ज़फ़र' ता-ज़िंदगी बिकता रहा परदेस में

अपनी घर-वाली को इक कंगन दिलाने के लिए

कैसी शब है एक इक करवट पे कट जाता है जिस्म

मेरे बिस्तर में ये तलवारें कहाँ से गईं

अभी ज़िंदा हैं हम पर ख़त्म कर ले इम्तिहाँ सारे

हमारे बाद कोई इम्तिहाँ कोई नहीं देगा

आँखें यूँ ही भीग गईं क्या देख रहे हो आँखों में

बैठो साहब कहो सुनो कुछ मिले हो कितने साल के बाद

ख़त लिख के कभी और कभी ख़त को जला कर

तंहाई को रंगीन बना क्यूँ नहीं लेते

कोई आँखों के शोले पोंछने वाला नहीं होगा

'ज़फ़र' साहब ये गीली आस्तीं ही काम आएगी

फ़लक ने भी ठिकाना कहीं दिया हम को

मकाँ की नीव ज़मीं से हटा के रक्खी थी

समुंदर ले गया हम से वो सारी सीपियाँ वापस

जिन्हें हम जमअ कर के इक ख़ज़ाना करने वाले थे

ज़ेहनों की कहीं जंग कहीं ज़ात का टकराव

इन सब का सबब एक मफ़ादात का टकराव

नहीं मालूम आख़िर किस ने किस को थाम रक्खा है

वो मुझ में गुम है और मेरे दर दीवार गुम उस में

शायद अब तक मुझ में कोई घोंसला आबाद है

घर में ये चिड़ियों की चहकारें कहाँ से गईं

शजर के क़त्ल में इस का भी हाथ है शायद

बता रहा है ये बाद-ए-सबा का चुप रहना

तंहाई को घर से रुख़्सत कर तो दो

सोचो किस के घर जाएगी तंहाई

उसे ठहरा सको इतनी भी तो वुसअत नहीं घर में

ये सब कुछ जान कर आवारगी से चाहते क्या हो