Zia-ul-Haq Qasmi's Photo'

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

पाकिस्तान

ग़ज़ल 1

 

नज़्म 1

 

शेर 5

मैं जिसे हीर समझता था वो राँझा निकला

बात निय्यत की नहीं बात है बीनाई की

  • शेयर कीजिए

मुझे अपनी बीवी पे फ़ख़्र है मुझे अपने साले पे नाज़ है

नहीं दोश दोनों का इस में कुछ मुझे डाँटता कोई और है

  • शेयर कीजिए

मिरे रोब में तो वो गया मिरे सामने तो वो झुक गया

मुझे लात खा के हुई ख़बर मुझे पीटता कोई और है

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 1

 

हास्य 21

ई-पुस्तक 3

Aawaz-e-Jaras

 

1994

Chhed Khaniyan

 

1991

Rag-e-Zarafat

 

2000

 

वीडियो 5

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
At a mushaira

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

Hajj Adda Karnay Gaya Tha Qoum Ka Leader Koi

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

Houston Mushaira

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

Shaam E Zia Ul Haq Qasm - Mushairai

ज़ियाउल हक़ क़ासमी

ज़ियाउल हक़ क़ासमी