अतीत के एहसासों के साथ 10 ग़ज़लें

यहाँ 10 ऐसी ग़ज़लें दी

जा रही हैं, जिसे सुनते हुए हम अतीत के साए में खो जाते हैं |

23.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

क्यों मिरे साथ ही अक्सर ये हुआ करता है

अज़ीमुद्दीन साहिल साहिल कलमनूरी

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए