मनुष्य

इन्सान वो वाहिद हैवान है जो अपना ज़हर दिल में रखता है।

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी

मैं सोचता हूँ अगर बंदर से इन्सान बन कर हम इतनी क़यामतें ढा सकते हैं, इस क़दर फ़ित्ने बरपा कर सकते हैं तो वापिस बंदर बन कर हम ख़ुदा मालूम क्या कुछ कर सकते हैं?

सआदत हसन मंटो

बंदर में हमें इसके इलावा और कोई ऐब नज़र नहीं आता कि वो इन्सान का जद्द-ए-आला है।

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी

आदमी या तो आदमी है वर्ना आदमी नहीं है, गधा है, मकान है, मेज़ है, या और कोई चीज़ है।

सआदत हसन मंटो