ADVERTISEMENT

मुलाक़ात पर चित्र/छाया शायरी

मुलाक़ात को शायरों ने

कसरत के साथ मौज़ू बनाया है। शायर अपनी ज़िंदगी में जो भी कुछ हो लेकिन शाइरी में ज़रूर आशिक़ बन जाता है। इन शेरों में आप मुलाक़ात के मयस्सर न होने, मुलाक़ात के इंतिज़ार में रहने और मुलाक़ात के वक़्त महबूब के धोका दे जाने जैसी सूरतों से गुज़रेंगे।

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT