ADVERTISEMENT

बाल कविता पर

कोट पेंट की शान बढ़ाए

आदिल असीर देहलवी

जब जंगल में भागे है वो

आदिल असीर देहलवी

नर्म मुलाएम जी ललचाए

आदिल असीर देहलवी
ADVERTISEMENT

बारिश में वो नाच दिखाए

आदिल असीर देहलवी

मौसीक़ी का माहिर भी था

आदिल असीर देहलवी

पेड़ों पर भी वो चढ़ जाए

आदिल असीर देहलवी

खेत में उपजे जड़ कहलाए

आदिल असीर देहलवी
ADVERTISEMENT

देखूँ तो मिरा जी ललचाए

आदिल असीर देहलवी

मीठी चीज़ें खाएँगे हम

आदिल असीर देहलवी

तहज़ीबों की शान है इस में

आदिल असीर देहलवी
ADVERTISEMENT