आत्म सम्मान शायरी

झुक कर सलाम करने में क्या हर्ज है मगर

सर इतना मत झुकाओ कि दस्तार गिर पड़े

इक़बाल अज़ीम

सम्बंधित विषय