तंज़-ओ-मिज़ाह शायरी

तंज़-ओ-मिज़ाह की शायरी बयक-वक़्त कई डाईमेंशन रखती है, इस में हंसने हंसाने और ज़िंदगी की तलख़ियों को क़हक़हे में उड़ाने की सकत भी होती है और मिज़ाह के पहलू में ज़िंदगी की ना-हमवारियों और इंसानों के ग़लत रवय्यों पर तंज और मिज़ाह के पैराए में एक तख़लीक़-कार वो सब कह जाता है जिस के इज़हार की आम ज़िंदगी में तवक़्क़ो भी नहीं की जा सकती। ये शायरी पढ़िए और ज़िंदगी के उन दिल-चस्प इलाक़ों की सैर कीजिए।

पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा

लो आज हम भी साहिब-ए-औलाद हो गए

seeing the lawyer born, satan was moved to say

lo and behold I have become a father today

seeing the lawyer born, satan was moved to say

lo and behold I have become a father today

अकबर इलाहाबादी

मैं भी ग्रेजुएट हूँ तुम भी ग्रेजुएट

इल्मी मुबाहिसे हों ज़रा पास के लेट

अकबर इलाहाबादी

बी.ए भी पास हों मिले बी-बी भी दिल-पसंद

मेहनत की है वो बात ये क़िस्मत की बात है

अकबर इलाहाबादी

कोट और पतलून जब पहना तो मिस्टर बन गया

जब कोई तक़रीर की जलसे में लीडर बन गया

donning fancy clothes beame a gentlean avowed

and turned into a leader on speaking to a crowd,

donning fancy clothes beame a gentlean avowed

and turned into a leader on speaking to a crowd,

अकबर इलाहाबादी

तिफ़्ल में बू आए क्या माँ बाप के अतवार की

दूध तो डिब्बे का है तालीम है सरकार की

अकबर इलाहाबादी

बूढ़ों के साथ लोग कहाँ तक वफ़ा करें

बूढ़ों को भी जो मौत आए तो क्या करें

अकबर इलाहाबादी

रहमान के फ़रिश्ते गो हैं बहुत मुक़द्दस

शैतान ही की जानिब लेकिन मेजोरिटी है

अकबर इलाहाबादी

डिनर से तुम को फ़ुर्सत कम यहाँ फ़ाक़े से कम ख़ाली

चलो बस हो चुका मिलना तुम ख़ाली हम ख़ाली

अकबर इलाहाबादी