Mushfiq Khwaja's Photo'

मुशफ़िक़ ख़्वाजा

1935 - 2005 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के अग्रणी हास्य-व्यंग लेखक, अपने कॉलम 'ख़ामा-बगोश' के लिए विख्यात।

पाकिस्तान के अग्रणी हास्य-व्यंग लेखक, अपने कॉलम 'ख़ामा-बगोश' के लिए विख्यात।

शेर 7

नज़र चुरा के वो गुज़रा क़रीब से लेकिन

नज़र बचा के मुझे देखता भी जाता था

  • शेयर कीजिए

ये लम्हा लम्हा ज़िंदा रहने की ख़्वाहिश का हासिल है

कि लहज़ा लहज़ा अपने आप ही में मर रहा हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

मिरी नज़र में गए मौसमों के रंग भी हैं

जो आने वाले हैं उन मौसमों से डरना क्या

ये हाल है मिरे दीवार-ओ-दर की वहशत का

कि मेरे होते हुए भी मकान ख़ाली है

हज़ार बार ख़ुद अपने मकाँ पे दस्तक दी

इक एहतिमाल में जैसे कि मैं ही अंदर था

ग़ज़ल 23

क़िस्सा 2

 

पुस्तकें 166

Abiyat

 

1978

ग़ालिब और सफ़ीर बिलगरामी

 

1981

Ghalib Aur Safeer Bilgrami

 

1985

Ghalib Aur Safeer Bilgrami

 

1981

Ghalib Aur Safeer Bilgrami

 

1985

इक़बाल

 

1979

इक़बाल

 

2006

इक़बाल

 

2006

जाएज़ा-ए-मख़्तूतात-ए-उर्दू

खण्ड-001

1979

Khama Bagosh Ke Qalam Se

 

1995

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
ऐ मुश्फ़िक़-ए-मन इस हाल में तुम किस तरह बसर फ़रमाओगे

मुशफ़िक़ ख़्वाजा

क़दम उठे तो अजब दिल-गुदाज़ मंज़र था

मुशफ़िक़ ख़्वाजा

क्यूँ ख़ल्वत-ए-ग़म में रहते हो क्यूँ गोशा-नशीं बेकार हुए

मुशफ़िक़ ख़्वाजा

यही नहीं कि वो बे-ताब-ओ-बे-क़रार गया

मुशफ़िक़ ख़्वाजा

"कराची" के और लेखक

  • मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी
  • मोहम्मद अमीनुद्दीन मोहम्मद अमीनुद्दीन
  • मोहम्मद हसन असकरी मोहम्मद हसन असकरी
  • अहमद हमेश अहमद हमेश
  • मुमताज़ हुसैन मुमताज़ हुसैन
  • असद मोहम्मद ख़ाँ असद मोहम्मद ख़ाँ
  • मौलवी अब्दुल हक़ मौलवी अब्दुल हक़
  • हाजरा मसरूर हाजरा मसरूर
  • रिफ़ाक़त हयात रिफ़ाक़त हयात
  • आमिर सिद्दीक़ी आमिर सिद्दीक़ी