Rajesh Reddy's Photo'

राजेश रेड्डी

1952 | मुंबई, भारत

समाजिक सच्चाइयों को बेनक़ाब करने वाले लोकप्रिय शायर

समाजिक सच्चाइयों को बेनक़ाब करने वाले लोकप्रिय शायर

ग़ज़ल 32

शेर 36

जितनी बटनी थी बट चुकी ये ज़मीं

अब तो बस आसमान बाक़ी है

मिरे दिल के किसी कोने में इक मासूम सा बच्चा

बड़ों की देख कर दुनिया बड़ा होने से डरता है

शाम को जिस वक़्त ख़ाली हाथ घर जाता हूँ मैं

मुस्कुरा देते हैं बच्चे और मर जाता हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 1

वजूद

 

2011

 

वीडियो 18

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Ab kya bataye toote hain kitne kahan se hum

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Hai koi bair sa usko meri tadbeer ke saath

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Jaane kitni udaan baaqi hai

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Jo kahin tha hi nahi usko kahin dhoondna tha

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Kisi din zindagani mein karishma kyu nahi hota

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Na jism saath hamare na jaan hamari taraf

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Rajesh Reddy at a mushaira

राजेश रेड्डी

Rang mausam k ahara tha pahle

राजेश रेड्डी

Sham ko jis waqt khaali haath ghar jata hu mein

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Yahan har shakhs har pal haadsa hone se darta hai

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Ye kab chaha ki mein mashoor ho jaaun

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

Yoon dekhiye to aandhi mein bus ek shajar gaya

Rajesh Reddy is a prominent poet. Rajesh reciting his ghazals at Rekhta Studio. राजेश रेड्डी

ऑडियो 10

अब क्या बताएँ टूटे हैं कितने कहाँ से हम

किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूँ नहीं होता

जाने कितनी उड़ान बाक़ी है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित लेखक

  • शकील आज़मी शकील आज़मी समकालीन
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना समकालीन
  • इक़बाल अशहर इक़बाल अशहर समकालीन
  • शीन काफ़ निज़ाम शीन काफ़ निज़ाम समकालीन

"मुंबई" के और लेखक

  • अलीम सबा नवेदी अलीम सबा नवेदी
  • वहीदुद्दीन सलीम वहीदुद्दीन सलीम
  • अनीस अशफ़ाक़ अनीस अशफ़ाक़
  • ख़ुर्शीद अकरम ख़ुर्शीद अकरम
  • नाज़ क़ादरी नाज़ क़ादरी
  • शमीम हनफ़ी शमीम हनफ़ी
  • शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी
  • इक़बाल मजीद इक़बाल मजीद
  • शकीलुर्रहमान शकीलुर्रहमान
  • बाक़र मेहदी बाक़र मेहदी