Imam Azam's Photo'

इमाम अाज़म

1960 | कोलकाता, भारत

शायर,आलोचक,पत्रकार और साहित्यिक पत्रिका "तमसील-ए-नौ" के ऑनरेरी संपादक

शायर,आलोचक,पत्रकार और साहित्यिक पत्रिका "तमसील-ए-नौ" के ऑनरेरी संपादक

इमाम अाज़म

ग़ज़ल 11

शेर 10

तेरी ख़ुशबू से मोअत्तर है ज़माना सारा

कैसे मुमकिन है वो ख़ुशबू भी गुलाबों में मिले

आस्था का रंग जाए अगर माहौल में

एक राखी ज़िंदगी का रुख़ बदल सकती है आज

  • शेयर कीजिए

किसी की बात कोई बद-गुमाँ समझेगा

ज़मीं का दर्द कभी आसमाँ समझेगा

दुनिया की इक रीत पुरानी, मिलना और बिछड़ना है

एक ज़माना बीत गया है तुम कब मिलने आओगे

मौसम सूखा सूखा सा था लेकिन ये क्या बात हुई

केवल उस के कमरे में ही रात गए बरसात हुई

पुस्तकें 42

Ahd-e-Islamia Mein Darbhanga Aur Doosre Mazameen

 

2009

Charagh-e-Aagahi

Adabi Mazmeen

2019

डॉ इमाम आज़म : इजमाली जायज़ा

 

2012

Gaisu-e-Tahreer

 

2012

Gesu-e-Afkar

Adabi Mazmeen

2019

Gesu-e-Asloob

 

2018

Gesu-e-Tanqeed

 

2008

Hindustani Adab Ke Memar: Mazhar Imam

 

2019

हिन्दुस्तानी फ़िल्में और उर्दू

 

2012

Hindustanii Adab Ke Memar: Abdul Ghafoor Shahbaz

 

2011