Shamsur Rahman Faruqi's Photo'

Shamsur Rahman Faruqi

1935 - 2020 | Allahabad, India

Poet, fiction writer and one of the leading Urdu critics

Poet, fiction writer and one of the leading Urdu critics

Shamsur Rahman Faruqi

Article 48

Short story 4

 

Quote 24

दुनिया की निगाहों में तो मेरी पहचान ऐसे नक़्क़ाद की है जिसने अदब के हर मैदान में तन्क़ीद का हक़ अदा किया है लेकिन जिसके ख़्यालात ने लोगों को गुमराह भी किया है। फ़र्क़ सिर्फ ये है कि दुनिया जिसे गुमराही क़रार देती है मैं उसे राह-ए-मुस्तक़ीम समझता हूँ।

  • Share this

तन्क़ीद का मक़सद मालूमात में इज़ाफ़ा करना नहीं बल्कि इल्म में इज़ाफ़ा करना है।

  • Share this

शायरी का मिज़ाज हर अह्द में प्रोपेगंडे के ख़िलाफ़ रहा है।

  • Share this

उर्दू एक छोटी ज़बान है और उम्र भी इसकी बहुत कम है। इस के बोलने वालों की कोई सियासी क़ुव्वत भी नहीं है। जैसी कि अरबी बोलने वालों की है। लेकिन फिर भी उर्दू इस वक़्त दुनिया की चंद एक ज़बानों में से एक है जो हक़ीक़ी तौर पर बैन-उल-अक़वामी हैं।

  • Share this

जब तालीम के नाम पर ख़ाँदगी की तौसीअ होने लगती है तो मेयार में ज़बरदस्त इन्हितात पैदा होता है।

  • Share this

interview 10

Sher 1

banā.eñge na.ī duniyā ham apnī

tirī duniyā meñ ab rahnā nahīñ hai

banaenge nai duniya hum apni

teri duniya mein ab rahna nahin hai

  • Share this
 

Ghazal 19

Rubai 9

BOOKS 489

Aal-e-Ahmad Suroor

Kaleedi Khutba: Suroor Danishwar

2001

Aasarut Tawarikh

 

1999

Afsane Ki Himayat Mein

 

2006

Aftab-e Shuja'at

vol. 5 (1)

1908

Aftab-e Shuja'at

vol. 5 (2)

1908

Aftab-e Shuja'at

vol. 2

1903

Aftab-e Shuja'at

vol. 1

 

Akbar Allahabadi

Nai Tahzibi Siyasat Aur Badalte Huye Aqdar

2002

Andaz-e-Guftugu Kya Hai

 

1993

Arooz Aahang Aur Bayan

 

1977

Videos 15

This video is playing from YouTube

Playing videos from section
Humorous
piyaa baaj pyaalaa piyaa jaa.e naa

Shamsur Rahman Faruqi

samundar kaa bulaavaa

ye sargoshiyaa.n kah rahii hai.n ab aa.o ki barso.n se tum ko bulaate bulaate mire Shamsur Rahman Faruqi

RELATED Blog

 

RELATED contributors

  • Adil Mansuri Adil Mansuri Contemporary
  • Prem Kumar Nazar Prem Kumar Nazar Contemporary
  • Shahzad Ahmad Shahzad Ahmad Contemporary
  • Gopi Chand Narang Gopi Chand Narang Contemporary

More contributors From "Allahabad"

  • Central Library of Allahabad University, Allahabad Central Library of Allahabad University, Allahabad