लेखक : ज़िया अज़ीमाबादी

प्रकाशक : कोह-ए-नूर बुक डिपो, नई दिल्ली

प्रकाशन वर्ष : 1961

भाषा : Urdu

श्रेणियाँ : नॉवेल / उपन्यास

उप श्रेणियां : रोमांटिक

पृष्ठ : 216

सहयोगी : रेख़्ता

anjan

लेखक: परिचय

ज़िया ज़ीमाबादीमिर्ज़ा ली रज़ा बहुत कम-म्री में शे कहने लगे। अपने ज़माने के उस्ताद शौक़ नीमवी के एक शागिर्द और फिर ख़ुद उस्ताद को कलाम दिखाते थे। नौजवानी में ही गेरुवे कपड़ों में फ़क़ीरों जैसी ज़िन्दगी गुज़ारने लगे, और इसी हाल में हैज़े का शिकार हुए। ज़ीमाबाद (पटनामें पैदा हुए और वहीं देहांत हुआ।

.....और पढ़िए

लेखक की अन्य पुस्तकें

लेखक की अन्य पुस्तकें यहाँ पढ़ें।

पूरा देखिए

पाठकों की पसंद

यदि आप अन्य पाठकों की पसंद में रुचि रखते हैं, तो रेख़्ता पाठकों की पसंदीदा उर्दू पुस्तकों की इस सूची को देखें।

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

सबसे लोकप्रिय और ट्रेंडिंग उर्दू पुस्तकों का पता लगाएँ।

पूरा देखिए
बोलिए