लेखक : नुशूर वाहिदी

संपादक : नियाज़ वाहिदी

प्रकाशक : सरवत वाहिदी बिन्त-ए-नुशूर वाहिदी

मूल : Lucknow (City), Other (District), Uttar pradesh (State), India (Country)

प्रकाशन वर्ष : 2009

भाषा : Urdu

पृष्ठ : 168

सहयोगी : ग़ालिब अकेडमी, देहली

danish akhiruzzaman

लेखक: परिचय

जमील अहमद के बेटे , सजीली ग़ज़लों के शायर, लेखक और चिकित्सक हफ़िज़ुर्रहमान साहित्य में नुशूर वाहिदी के नाम से जाने गए। 15 अप्रैल 1912 को पैदा हुए पिता फारसी के विद्वान और शायर थे। वो यकता के उपनाम से लिखते थे। नाना अब्दुर्रशीद भी फारसी के विद्वान थे। नुशूर के गांव की भाषा भोजपुरी थी। वो संगीत की बारीकियों से भी परिचित थे। गुलेल-बाज़ी और मछली के शिकार से उन्हें लगाव था। पैदल चलना पसंद करते थे। एक समय में वो कानपुर में पूर्वी अध्ययन के विद्वान के रूप में प्रसिद्ध हुए। बहुत कम उम्र में शिक्षक हुए और बाद में हलीम मुस्लिम कॉलेज कानपुर में उर्दू फारसी के व्याख्याता भी हुए। पठन-पाठन के कर्तव्यों  का पालन करते हुए उन्होंने चिकित्सा प्रमाण पत्र भी प्राप्त किया। जब वो 13 साल के थे और अकबर इलाहाबादी कमरे में बैठ कर पढ़ा करते थे तो उन्हें एक मिसरा तरह दिया गया था,  इस तरह वो शेर कहने लगे। शुरुआत में फ़ारसी में शेर कहे। नुशूर ने मज़ाहिया शायरी भी की। कुरान की तिलावत करते हुए उन्होंने एक वर्स से अपने उपनाम का चयन किया। एक समय में मुशायरे में बहुत लोकप्रिय थे। 1977 में उन्हें उर्दू का महाकवि भी कहा गया। मौलाना रोम की मसनवी का शेरी अनुवाद किया। 4 जनवरी 1983 को उनका निधन हो गया। 

.....और पढ़िए

लेखक की अन्य पुस्तकें

लेखक की अन्य पुस्तकें यहाँ पढ़ें।

पूरा देखिए

पाठकों की पसंद

यदि आप अन्य पाठकों की पसंद में रुचि रखते हैं, तो रेख़्ता पाठकों की पसंदीदा उर्दू पुस्तकों की इस सूची को देखें।

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

सबसे लोकप्रिय और ट्रेंडिंग उर्दू पुस्तकों का पता लगाएँ।

पूरा देखिए

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए