आज फिर चाँद उस ने माँगा है

इन्दिरा वर्मा

आज फिर चाँद उस ने माँगा है

इन्दिरा वर्मा

MORE BYइन्दिरा वर्मा

    आज फिर चाँद उस ने माँगा है

    चाँद का दाग़ फिर छुपाना है

    Once again he has asked for the moon

    The scar in the moon must again be hidden

    चाँद का हुस्न तो है ला-सानी

    फिर भी कितना फ़लक पे तन्हा है

    The beauty of the moon is without compare

    Yet it is so lonesome in the skies

    काश कुछ और माँगता मुझ से

    चाँद ख़ुद गर्दिशों का मारा है

    If only you had asked me for something else

    The moon is caught in its own turmoil

    दूर है चाँद इस ज़मीं से बहुत

    फिर भी हर शब तवाफ़ करता है

    The moon is far, far away from this world

    Yet every night it is spinning around in circles

    बस्तियों से निकल के सहरा में

    जुस्तुजू किस की रोज़ करता है

    Coming out of the neighbourhoods to go into the wilderness

    In whose search does he go night agter night

    किस ख़ता की सज़ा मिली उस को

    किस लिए रोज़ घटता बढ़ता है

    For what fault is he being so punished

    That he must wax and wane every night

    चाँद से ये ज़मीं नहीं तन्हा

    फ़लक तू भी जगमगाया है

    The earth is not the only one

    The sky too is lit by the moon

    आज तारों की बज़्म चमकी है

    चाँद पर बादलों का साया है

    The cluster of stars is resplendent today

    The moon is covered by the shadow of the clouds

    रौशनी फूट निकली मिसरों से

    चाँद को जब ग़ज़ल में सोचा है

    Rediance burst out of my verses

    When I potray the moon in my ghazals

    RECITATIONS

    सुदीप बनर्जी

    सुदीप बनर्जी

    सुदीप बनर्जी

    आज फिर चाँद उस ने माँगा है सुदीप बनर्जी

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY