ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

शकील बदायुनी

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

शकील बदायुनी

MORE BY शकील बदायुनी

    INTERESTING FACT

    फिल्म: मुग़ले आज़म 1960

    मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

    जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आया

    Love your sad conclusion makes me weep

    Wonder why your mention makes me weep

    यूँ तो हर शाम उमीदों में गुज़र जाती है

    आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया

    Every evening was, by hope, sustained

    This evening's desperation makes me weep

    कभी तक़दीर का मातम कभी दुनिया का गिला

    मंज़िल-ए-इश्क़ में हर गाम पे रोना आया

    Lamenting fate, complaining of this life

    In course of love each station makes me weep

    मुझ पे ही ख़त्म हुआ सिलसिला-ए-नौहागरी

    इस क़दर गर्दिश-ए-अय्याम पे रोना आया

    The cycle of all mourning stops at me

    Life's inconstant rotation makes me weep

    जब हुआ ज़िक्र ज़माने में मोहब्बत का 'शकील'

    मुझ को अपने दिल-ए-नाकाम पे रोना आया

    Whenever talk of happiness I hear

    My failure and frustration makes me weep

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    Pooja Mehra Gupta

    Pooja Mehra Gupta

    शांति हीरानंद

    शांति हीरानंद

    बरकत अली ख़ाँ

    बरकत अली ख़ाँ

    राधिका चोपड़ा

    राधिका चोपड़ा

    टीना सानी

    टीना सानी

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY