है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और

मिर्ज़ा ग़ालिब

है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BY मिर्ज़ा ग़ालिब

    है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और

    करते हैं मोहब्बत तो गुज़रता है गुमाँ और

    in every gesture of her's, there, ulterior motive lies

    when she professes love, therefore, suspicion does arise

    या-रब वो समझे हैं समझेंगे मिरी बात

    दे और दिल उन को जो दे मुझ को ज़बाँ और

    O Lord! She never understood nor ever will my plea

    give her another heart or else the gift of speech to me

    अबरू से है क्या उस निगह-ए-नाज़ को पैवंद

    है तीर मुक़र्रर मगर इस की है कमाँ और

    her glance is not connected to the arch upon her brow

    an arrow it is certainly, but somewhere else the bow

    तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे

    ले आएँगे बाज़ार से जा कर दिल जाँ और

    when your'e in town why should I fret at losing life and heart

    from lovesick suitors I can buy these freely in the mart

    हर चंद सुबुक-दस्त हुए बुत-शिकनी में

    हम हैं तो अभी राह में है संग-ए-गिराँ और

    although in breaking idols I, can claim celerity

    so long as "I" exists till then, stones in the path will be

    है ख़ून-ए-जिगर जोश में दिल खोल के रोता

    होते जो कई दीदा-ए-ख़ूँनाबा-फ़िशाँ और

    blood of my liver's patience boils, my heart would freely weep

    if many more eyes could obtain, from which this blood wcould seep

    मरता हूँ इस आवाज़ पे हर चंद सर उड़ जाए

    जल्लाद को लेकिन वो कहे जाएँ कि हाँ और

    I die to hear that voice, although, my head it may sever

    "yes! strike again" she keeps telling, the executioner

    लोगों को है ख़ुर्शीद-ए-जहाँ-ताब का धोका

    हर रोज़ दिखाता हूँ मैं इक दाग़-ए-निहाँ और

    in error, world-illuming sun men think it when they view

    each day, a burning scar concealed, that I display anew

    लेता अगर दिल तुम्हें देता कोई दम चैन

    करता जो मरता कोई दिन आह-ओ-फ़ुग़ाँ और

    had I not given you my heart, life would, in peace, have spent

    had I not died, would bide my time, in weeping and lament

    पाते नहीं जब राह तो चढ़ जाते हैं नाले

    रुकती है मिरी तब्अ' तो होती है रवाँ और

    when they don't find path to escape, rivers tend to rise

    thus when my temperament's contrained, further intensifies

    हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे

    कहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और

    while there are many poets great, for in the world to speak

    but it is said that Gaalib does, possess a style unique

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    ज़ुल्फ़िक़ार अली बुख़ारी

    ज़ुल्फ़िक़ार अली बुख़ारी

    नूर जहाँ

    नूर जहाँ

    स्रोत:

    • पुस्तक : Deewan-e-Ghalib Jadeed (Al-Maroof Ba Nuskha-e-Hameedia) (पृष्ठ 222)

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY