तिरे ख़याल का चर्चा तिरे ख़याल की बात

इन्दिरा वर्मा

तिरे ख़याल का चर्चा तिरे ख़याल की बात

इन्दिरा वर्मा

MORE BYइन्दिरा वर्मा

    तिरे ख़याल का चर्चा तिरे ख़याल की बात

    शब-ए-फ़िराक़ में पैहम रही विसाल की बात

    Thinking of you, talking about thoughts about you,

    The Night of Separation is seamless with the talk of union

    तुम अपनी चारागरी को फिर करो रुस्वा

    हमारे हाल पे छोड़ो हमारे हाल की बात

    Don't bring shame to your powers of healing

    Leave it to us to deal with our own state

    कमाँ सी अबरू का आलम अजीब है देखो

    फ़लक के चाँद से बेहतर है उस हिलाल की बात

    See, the brow like an arched bow is an amazing sight

    Its luminosity is greater than the new moon in the skies

    यही फ़साना रहा है जुनूँ के सहरा में

    कभी फ़िराक़ के क़िस्से कभी विसाल की बात

    It has always been so in the desert of mad longing

    sometimes the legends of partings, sometimes the talk of meeting

    बहार आई तो खुल कर कहा है फूलों ने

    ये किस ने छेड़ दी गुलशन में फिर जमाल की बात

    With the coming of spring, flowers have burst into speech

    Who has again spread this tale of beauty in the garden

    तू अपने आप में तन्हा है मेरी नज़रों में

    कहाँ से ढूँड के लाऊँ तिरे मिसाल की बात

    You alone are the only one in my eyes

    Where shall I find another one like you

    बिना तलब के अता कर रहा है वो मुझ को

    लबों पे मेरे आए कभी सवाल की बात

    Wiithout asking, he grants me gifts

    Never should a request ever arise on my lips

    RECITATIONS

    राधिका चोपड़ा

    राधिका चोपड़ा

    राधिका चोपड़ा

    तिरे ख़याल का चर्चा तिरे ख़याल की बात राधिका चोपड़ा

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY