वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

MORE BY मोमिन ख़ाँ मोमिन

    वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि याद हो

    वही या'नी वा'दा निबाह का तुम्हें याद हो कि याद हो

    the love that 'tween us used to be, you may, may not recall

    those promises of constancy, you may, may not recall

    वो जो लुत्फ़ मुझ पे थे बेशतर वो करम कि था मिरे हाल पर

    मुझे सब है याद ज़रा ज़रा तुम्हें याद हो कि याद हो

    those favours that you did bestow, the kindness that you once did show

    I can recall them all somehow, you may, may not recall

    वो नए गिले वो शिकायतें वो मज़े मज़े की हिकायतें

    वो हर एक बात पे रूठना तुम्हें याद हो कि याद हो

    new complaints each every night, stories so full of delight

    at every word your feigning slight, you may, may not recall

    कभी बैठे सब में जो रू-ब-रू तो इशारतों ही से गुफ़्तुगू

    वो बयान शौक़ का बरमला तुम्हें याद हो कि याद हो

    sitting in midst of company, talking in gestures openly

    that expression of love publicly, you may, may not recall

    हुए इत्तिफ़ाक़ से गर बहम तो वफ़ा जताने को दम-ब-दम

    गिला-ए-मलामत-ए-अक़रिबा तुम्हें याद हो कि याद हो

    if face to face we chanced to be, to constantly prove loyalty

    those plaints of folks' rebukes to me, you may, may not recall

    कोई बात ऐसी अगर हुई कि तुम्हारे जी को बुरी लगी

    तो बयाँ से पहले ही भूलना तुम्हें याद हो कि याद हो

    a word of mine if were to be, which hurt you to any degree

    forgetting it most instantly, you may, may not recall

    कभी हम में तुम में भी चाह थी कभी हम से तुम से भी राह थी

    कभी हम भी तुम भी थे आश्ना तुम्हें याद हो कि याद हो

    friendship twixt us once used to be, a path there was from you to me

    once "I" and "you" were not, but we, you may, may not recall

    सुनो ज़िक्र है कई साल का कि किया इक आप ने वा'दा था

    सो निबाहने का तो ज़िक्र क्या तुम्हें याद हो कि याद हो

    Long past though it appears to be,there was something you promised me

    to fulfil each vow truthfully, you may, may not recall

    कहा मैं ने बात वो कोठे की मिरे दिल से साफ़ उतर गई

    तो कहा कि जाने मिरी बला तुम्हें याद हो कि याद हो

    ---

    ---

    वो बिगड़ना वस्ल की रात का वो मानना किसी बात का

    वो नहीं नहीं की हर आन अदा तुम्हें याद हो कि याद हो

    you getting angry when we met, at everything getting upset

    your nay saying I can't forget, you may, may not recall

    जिसे आप गिनते थे आश्ना जिसे आप कहते थे बा-वफ़ा

    मैं वही हूँ 'मोमिन'-ए-मुब्तला तुम्हें याद हो कि याद हो

    the one you once held close to you, the one whom once you deemed as true

    I am that distressed Momin, blue, you may, may not recall

    वीडियो

    Videos

    नय्यरा नूर

    नय्यरा नूर

    भारती विश्वनाथन

    भारती विश्वनाथन

    शांति हीरानंद

    शांति हीरानंद

    फ़रीदा ख़ानम

    फ़रीदा ख़ानम

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    शांति हीरानंद

    शांति हीरानंद

    ग़ुलाम अली

    ग़ुलाम अली

    आबिदा परवीन

    आबिदा परवीन

    शांति हीरानंद

    शांति हीरानंद

    हरिहरण

    हरिहरण

    शांति हीरानंद

    शांति हीरानंद

    RECITATIONS

    नय्यरा नूर

    नय्यरा नूर

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    नय्यरा नूर

    वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो नय्यरा नूर

    Critique mode ON

    Tap on any word to submit a critique about that line. Word-meanings will not be available while you’re in this mode.

    OKAY

    SUBMIT CRITIQUE

    नाम

    ई-मेल

    टिप्पणी

    Thanks, for your feedback

    Critique draft saved

    EDIT DISCARD

    CRITIQUE MODE ON

    TURN OFF

    Discard saved critique?

    CANCEL DISCARD

    CRITIQUE MODE ON - Click on a line of text to critique

    TURN OFF

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Favorite added successfully

    Favorite removed successfully