Aale Ahmad Suroor's Photo'

आल-ए-अहमद सूरूर

1911 - 2002 | अलीगढ़, भारत

आधुनिक उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल हैं।

आधुनिक उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल हैं।

5.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हम जिस के हो गए वो हमारा हो सका

यूँ भी हुआ हिसाब बराबर कभी कभी

साहिल के सुकूँ से किसे इंकार है लेकिन

तूफ़ान से लड़ने में मज़ा और ही कुछ है

तुम्हारी मस्लहत अच्छी कि अपना ये जुनूँ बेहतर

सँभल कर गिरने वालो हम तो गिर गिर कर सँभले हैं

हुस्न काफ़िर था अदा क़ातिल थी बातें सेहर थीं

और तो सब कुछ था लेकिन रस्म-ए-दिलदारी थी

आती है धार उन के करम से शुऊर में

दुश्मन मिले हैं दोस्त से बेहतर कभी कभी

मय-कशी के भी कुछ आदाब बरतना सीखो

हाथ में अपने अगर जाम लिया है तुम ने

आज पी कर भी वही तिश्ना-लबी है साक़ी

लुत्फ़ में तेरे कहीं कोई कमी है साक़ी

हम तो कहते थे ज़माना ही नहीं जौहर-शनास

ग़ौर से देखा तो अपने में कमी पाई गई

कुछ तो है वैसे ही रंगीं लब रुख़्सार की बात

और कुछ ख़ून-ए-जिगर हम भी मिला देते हैं

लोग माँगे के उजाले से हैं ऐसे मरऊब

रौशनी अपने चराग़ों की बुरी लगती है

ये क्या ग़ज़ब है जो कल तक सितम-रसीदा थे

सितमगरों में अब उन का भी नाम आया है

जो तिरे दर से उठा फिर वो कहीं का रहा

उस की क़िस्मत में रही दर-बदरी कहते हैं

वो तबस्सुम है कि 'ग़ालिब' की तरह-दार ग़ज़ल

देर तक उस की बलाग़त को पढ़ा करते हैं

बस्तियाँ कुछ हुईं वीरान तो मातम कैसा

कुछ ख़राबे भी तो आबाद हुआ करते हैं

तमाम उम्र कटी उस की जुस्तुजू करते

बड़े दिनों में ये तर्ज़-ए-कलाम आया है

अब धनक के रंग भी उन को भले लगते नहीं

मस्त सारे शहर वाले ख़ून की होली में थे

अभी आते नहीं उस रिंद को आदाब-ए-मय-ख़ाना

जो अपनी तिश्नगी को फ़ैज़-ए-साक़ी की कमी समझे

जहाँ में हो गई ना-हक़ तिरी जफ़ा बदनाम

कुछ अहल-ए-शौक़ को दार-ओ-रसन से प्यार भी है

हस्ती के भयानक नज़्ज़ारे साथ अपने चले हैं दुनिया से

ये ख़्वाब-ए-परेशाँ और हम को ता-सुब्ह-ए-क़यामत सोना है