noImage

आसी ग़ाज़ीपुरी

1834 - 1917 | ग़ाज़ीपुर, भारत

सूफ़ियाना विचारधारा के लोकप्रिय शायर

सूफ़ियाना विचारधारा के लोकप्रिय शायर

2.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दर्द-ए-दिल कितना पसंद आया उसे

मैं ने जब की आह उस ने वाह की

दिल दिया जिस ने किसी को वो हुआ साहिब-ए-दिल

हाथ जाती है खो देने से दौलत दिल की

मेरी आँखें और दीदार आप का

या क़यामत गई या ख़्वाब है

जुनूँ फिर मिरे सर पर वही शामत आई

फिर फँसा ज़ुल्फ़ों में दिल फिर वही आफ़त आई

वो कहते हैं मैं ज़िंदगानी हूँ तेरी

ये सच है तो उन का भरोसा नहीं है

लब-ए-नाज़ुक के बोसे लूँ तो मिस्सी मुँह बनाती है

कफ़-ए-पा को अगर चूमूँ तो मेहंदी रंग लाती है

वो फिर वादा मिलने का करते हैं यानी

अभी कुछ दिनों हम को जीना पड़ेगा

ख़ुदा से तिरा चाहना चाहता हूँ

मेरा चाहना देख क्या चाहता हूँ

बीमार-ए-ग़म की चारागरी कुछ ज़रूर है

वो दर्द दिल में दे कि मसीहा कहें जिसे

तबीअत की मुश्किल-पसंदी तो देखो

हसीनों से तर्क-ए-वफ़ा चाहता हूँ

वो ख़त वो चेहरा वो ज़ुल्फ़-ए-सियाह तो देखो

कि शाम सुब्ह के बाद आए सुब्ह शाम के बाद

किस को देखा उन की सूरत देख कर

जी में आता है कि सज्दा कीजिए

मिलने वाले से राह पैदा कर

उस से मिलने की और सूरत क्या