Abdussamad ’Tapish’'s Photo'

अब्दुस्समद ’तपिश’

लखमीनिया, भारत

अब्दुस्समद ’तपिश’ के शेर

562
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

उसे खिलौनों से बढ़ कर है फ़िक्र रोटी की

हमारे दौर का बच्चा जनम से बूढ़ा है

कोई कॉलम नहीं है हादसों पर

बचा कर आज का अख़बार रखना

उन के लब पर मिरा गिला ही सही

याद करने का सिलसिला तो है

जहाँ तक पाँव मेरे जा सके हैं

वहीं तक रास्ता ठहरा हुआ है

मैं भी तन्हा इस तरफ़ हूँ वो भी तन्हा उस तरफ़

मैं परेशाँ हूँ तो हूँ वो भी परेशानी में है

वही क़ातिल वही मुंसिफ़ बना है

उसी से फ़ैसला ठहरा हुआ है

सब को दिखलाता है वो छोटा बना कर मुझ को

मुझ को वो मेरे बराबर नहीं होने देता

वक़्त के दामन में कोई

अपनी एक कहानी रख

अब निशाना उस की अपनी ज़ात है

लड़ रहा है इक अनोखी जंग वो

जफ़ा के ज़िक्र पे वो बद-हवास कैसा है

ज़रा सी बात थी लेकिन उदास कैसा है

पत्ते पत्ते से नग़्मा-सरा कौन है

हवा तेरे अंदर छुपा कौन है

क्यूँ वो मिलने से गुरेज़ाँ इस क़दर होने लगे

मेरे उन के दरमियाँ दीवार रख जाता है कौन

मिरी क़िंदील-ए-जाँ जलती है शब भर

ज़रा अपनी भी तो रूदाद-ए-शब लिख

ये मैं हूँ ख़ुद कि कोई और है तआक़ुब में

ये एक साया पस-ए-रहगुज़ार किस का है

जाने कौन फ़ज़ाओं में ज़हर घोल गया

हरा-भरा सा शजर बे-लिबास कैसा है

कौन पत्थर उठाए

ये शजर बे-समर है

हवा-ए-तुंद कैसी चल पड़ी है

शजर पर एक भी पत्ता नहीं है

वो बड़ा था फिर भी वो इस क़दर बे-फ़ैज़ था

उस घनेरे पेड़ में जैसे कोई साया था

मैं ने जो कुछ भी लिक्खा है

वो सब हर्फ़-ए-आइंदा है

कुछ हक़ाएक़ के ज़िंदा पैकर हैं

लफ़्ज़ में क्या बयान में क्या है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए