Adil Mansuri's Photo'

आदिल मंसूरी

1936 - 2008 | अहमदाबाद, भारत

अग्रणी आधुनिक शायार/भाषा के परम्परा-विरोधी प्रयोग के लिए प्रसिद्ध/अच्छे कैलीग्राफ़र और नाटक कार भी

अग्रणी आधुनिक शायार/भाषा के परम्परा-विरोधी प्रयोग के लिए प्रसिद्ध/अच्छे कैलीग्राफ़र और नाटक कार भी

किस तरह जमा कीजिए अब अपने आप को

काग़ज़ बिखर रहे हैं पुरानी किताब के

मेरे टूटे हौसले के पर निकलते देख कर

उस ने दीवारों को अपनी और ऊँचा कर दिया

चुप-चाप बैठे रहते हैं कुछ बोलते नहीं

बच्चे बिगड़ गए हैं बहुत देख-भाल से

ऐसे डरे हुए हैं ज़माने की चाल से

घर में भी पाँव रखते हैं हम तो सँभाल कर

कोई ख़ुद-कुशी की तरफ़ चल दिया

उदासी की मेहनत ठिकाने लगी

ज़रा देर बैठे थे तन्हाई में

तिरी याद आँखें दुखाने लगी

क्यूँ चलते चलते रुक गए वीरान रास्तो

तन्हा हूँ आज मैं ज़रा घर तक तो साथ दो

जो चुप-चाप रहती थी दीवार पर

वो तस्वीर बातें बनाने लगी

दरिया के किनारे पे मिरी लाश पड़ी थी

और पानी की तह में वो मुझे ढूँड रहा था

मुझे पसंद नहीं ऐसे कारोबार में हूँ

ये जब्र है कि मैं ख़ुद अपने इख़्तियार में हूँ

फिर बालों में रात हुई

फिर हाथों में चाँद खिला

फूलों की सेज पर ज़रा आराम क्या किया

उस गुल-बदन पे नक़्श उठ आए गुलाब के

कब तक पड़े रहोगे हवाओं के हाथ में

कब तक चलेगा खोखले शब्दों का कारोबार

ख़ुद-ब-ख़ुद शाख़ लचक जाएगी

फल से भरपूर तो हो लेने दो

दरवाज़ा बंद देख के मेरे मकान का

झोंका हवा का खिड़की के पर्दे हिला गया

उँगली से उस के जिस्म पे लिक्खा उसी का नाम

फिर बत्ती बंद कर के उसे ढूँडता रहा

तू किस के कमरे में थी

मैं तेरे कमरे में था

हुदूद-ए-वक़्त से बाहर अजब हिसार में हूँ

मैं एक लम्हा हूँ सदियों के इंतिज़ार में हूँ

खिड़की ने आँखें खोली

दरवाज़े का दिल धड़का

वो तुम तक कैसे आता

जिस्म से भारी साया था

बिस्मिल के तड़पने की अदाओं में नशा था

मैं हाथ में तलवार लिए झूम रहा था

हम को गाली के लिए भी लब हिला सकते नहीं

ग़ैर को बोसा दिया तो मुँह से दिखला कर दिया

दरवाज़ा खटखटा के सितारे चले गए

ख़्वाबों की शाल ओढ़ के मैं ऊँघता रहा

नींद भी जागती रही पूरे हुए ख़्वाब भी

सुब्ह हुई ज़मीन पर रात ढली मज़ार में

दरिया की वुसअतों से उसे नापते नहीं

तन्हाई कितनी गहरी है इक जाम भर के देख

कब से टहल रहे हैं गरेबान खोल कर

ख़ाली घटा को क्या करें बरसात भी तो हो

ख़्वाहिश सुखाने रक्खी थी कोठे पे दोपहर

अब शाम हो चली मियाँ देखो किधर गई

तुम को दावा है सुख़न-फ़हमी का

जाओ 'ग़ालिब' के तरफ़-दार बनो

हम्माम के आईने में शब डूब रही थी

सिगरेट से नए दिन का धुआँ फैल रहा था

नश्शा सा डोलता है तिरे अंग अंग पर

जैसे अभी भिगो के निकाला हो जाम से

तस्वीर में जो क़ैद था वो शख़्स रात को

ख़ुद ही फ़्रेम तोड़ के पहलू में गया

जिस्म की मिट्टी ले जाए बहा कर साथ में

दिल की गहराई में गिरता ख़्वाहिशों का आबशार

जाने किस को ढूँडने दाख़िल हुआ है जिस्म में

हड्डियों में रास्ता करता हुआ पीला बुख़ार

यादों ने उसे तोड़ दिया मार के पत्थर

आईने की ख़ंदक़ में जो परछाईं पड़ी थी

वो जान-ए-नौ-बहार जिधर से गुज़र गया

पेड़ों ने फूल पत्तों से रस्ता छुपा लिया

आवाज़ की दीवार भी चुप-चाप खड़ी थी

खिड़की से जो देखा तो गली ऊँघ रही थी

गिरते रहे नुजूम अंधेरे की ज़ुल्फ़ से

शब भर रहीं ख़मोशियाँ सायों से हम-कनार

फिर कोई वुसअत-ए-आफ़ाक़ पे साया डाले

फिर किसी आँख के नुक़्ते में उतारा जाऊँ