Akhlaq Ahmad Ahan's Photo'

अख़लाक़ अहमद आहन

1974 | दिल्ली, भारत

शोधकर्ता और शायर, अपनी नज़्म "सोचने पे पहरा है" के लिए मशहूर/ प्रोफ़ेसर जेएनयू

शोधकर्ता और शायर, अपनी नज़्म "सोचने पे पहरा है" के लिए मशहूर/ प्रोफ़ेसर जेएनयू

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
अकेले अकेले ही पा ली रिहाई

अख़लाक़ अहमद आहन

तिरी आश्नाई से तेरी रज़ा तक

अख़लाक़ अहमद आहन

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • अकेले अकेले ही पा ली रिहाई

    अकेले अकेले ही पा ली रिहाई अख़लाक़ अहमद आहन

  • तिरी आश्नाई से तेरी रज़ा तक

    तिरी आश्नाई से तेरी रज़ा तक अख़लाक़ अहमद आहन