Akhtar Shahjahanpuri's Photo'

अख़तर शाहजहाँपुरी

1940 | शाहजहाँपुर, भारत

710
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अभी तहज़ीब का नौहा लिखना

अभी कुछ लोग उर्दू बोलते हैं

अभी तहज़ीब का नौहा लिखना

अभी कुछ लोग उर्दू बोलते हैं

वो जुगनू हो सितारा हो कि आँसू

अँधेरे में सभी महताब से हैं

वो जुगनू हो सितारा हो कि आँसू

अँधेरे में सभी महताब से हैं

कोई मंज़र नहीं बरसात के मौसम में भी

उस की ज़ुल्फ़ों से फिसलती हुई धूपों जैसा

कोई मंज़र नहीं बरसात के मौसम में भी

उस की ज़ुल्फ़ों से फिसलती हुई धूपों जैसा

तुम्हारे ख़त कभी पढ़ना कभी तरतीब से रखना

अजब मशग़ूलियत रहती है बेकारी के मौसम में

तुम्हारे ख़त कभी पढ़ना कभी तरतीब से रखना

अजब मशग़ूलियत रहती है बेकारी के मौसम में

पुराने वक़्तों के कुछ लोग अब भी कहते हैं

बड़ा वही है जो दुश्मन को भी मुआ'फ़ करे

पुराने वक़्तों के कुछ लोग अब भी कहते हैं

बड़ा वही है जो दुश्मन को भी मुआ'फ़ करे

अपनों से जंग है तो भले हार जाऊँ मैं

लेकिन मैं अपने साथ सिपाही लाऊँगा

चलो अम्न-ओ-अमाँ है मय-कदे में

वहीं कुछ पल ठहर कर देखते हैं

चलो अम्न-ओ-अमाँ है मय-कदे में

वहीं कुछ पल ठहर कर देखते हैं

अपनों से जंग है तो भले हार जाऊँ मैं

लेकिन मैं अपने साथ सिपाही लाऊँगा

लोग ये सोच के ही परेशान हैं

मैं ज़मीं था तो क्यूँ आसमाँ हो गया

लोग ये सोच के ही परेशान हैं

मैं ज़मीं था तो क्यूँ आसमाँ हो गया

लाज रखनी पड़ गई है दोस्तों की

हम भरी महफ़िल में झूटे हो गए हैं

लाज रखनी पड़ गई है दोस्तों की

हम भरी महफ़िल में झूटे हो गए हैं

रंज-ओ-ग़म ठोकरें मायूसी घुटन बे-ज़ारी

मेरे ख़्वाबों की ये ता'बीर भी हो सकती है

रंज-ओ-ग़म ठोकरें मायूसी घुटन बे-ज़ारी

मेरे ख़्वाबों की ये ता'बीर भी हो सकती है

जाम-ए-शराब अब तो मिरे सामने रख

आँखों में नूर हाथ में जुम्बिश कहाँ है अब

जाम-ए-शराब अब तो मिरे सामने रख

आँखों में नूर हाथ में जुम्बिश कहाँ है अब

जुगनू था कहकशाँ था सितारा था या गुहर

आँसू किसी की आँख से जब तक गिरा था

जुगनू था कहकशाँ था सितारा था या गुहर

आँसू किसी की आँख से जब तक गिरा था

मैं झूट को सच्चाई के पैकर में सजाता

क्या कीजिए मुझ को ये हुनर ही नहीं आया

मैं झूट को सच्चाई के पैकर में सजाता

क्या कीजिए मुझ को ये हुनर ही नहीं आया

ये मो'जिज़ा हमारे ही तर्ज़-ए-बयाँ का था

उस ने वो सुन लिया था जो हम ने कहा था

ये भी क्या बात कि मैं तेरी अना की ख़ातिर

तेरी क़ामत से ज़ियादा तिरा साया चाहूँ

ये भी क्या बात कि मैं तेरी अना की ख़ातिर

तेरी क़ामत से ज़ियादा तिरा साया चाहूँ

ये मो'जिज़ा हमारे ही तर्ज़-ए-बयाँ का था

उस ने वो सुन लिया था जो हम ने कहा था

दिलों में कर्ब बढ़ता जा रहा है

मगर चेहरे अभी शादाब से हैं

दिलों में कर्ब बढ़ता जा रहा है

मगर चेहरे अभी शादाब से हैं

वो इक लम्हा जो तेरे वस्ल का था

बयाज़-ए-हिज्र पर लिक्खा हुआ है

वो इक लम्हा जो तेरे वस्ल का था

बयाज़-ए-हिज्र पर लिक्खा हुआ है

रंज-ओ-ग़म सहने की आदत हो गई है

ज़िंदा रहने के सलीक़े दे गया वो

रंज-ओ-ग़म सहने की आदत हो गई है

ज़िंदा रहने के सलीक़े दे गया वो

ज़रा यादों के ही पत्थर उछालो

नवाह-ए-जाँ में सन्नाटे बहुत हैं

ज़रा यादों के ही पत्थर उछालो

नवाह-ए-जाँ में सन्नाटे बहुत हैं

ये मुंसिफ़ान-ए-शहर हैं ये पासबान-ए-शहर

इन को बताओ नाम जो बलवाइयों के हैं

ये मुंसिफ़ान-ए-शहर हैं ये पासबान-ए-शहर

इन को बताओ नाम जो बलवाइयों के हैं